शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

साथ


तुम साथ रहते हो तो
पतझड़ भी सुहाने हो जाते हैं।

वही, तुम न रहो तो
दिन बेगाने क्यों हो जाते हैं?
--:0:-- 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें