शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

आँखें



आप इस तरह देखा न कीजिये
हमारी धड़कनें रुक-सी जाती हैं,
जी तो चाहता है कि नजरें मिलायें हम भी
पर आँखें हमारी झुक क्यों जाती हैं?
--:0:-- 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें